Home > विपणन संघ के बारे में > उद्देश्य एवं मुख्य क्षमतायें

उद्देश्य एवं मुख्य क्षमतायें

उद्देश्य

  • कृषकों को उनकी कृषि उपजों की पैदावार बढ़ाने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए गुणवत्तायुक्त कृषि आदान जैसे उर्वरक, कृषि उपकरण, बीज और कीटनाशक कृषकों को सहकारी समितियों के माध्यम से उचित दरों पर उपलब्ध करवाना।
  • राज्य शासन के कार्यक्रमों के अन्तर्गत कृषि उपजों का न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सहकारी समितियों के माध्यम से उपार्जन कर कृषकों को उनकी उपजों का उचित मूल्य दिलाना ।
  • सहकारी संस्थाओं द्वारा कृषि उत्पादों के विपणन, ट्रेडिंग व अन्य व्यवसायिक गतिविधियों में समन्वय, बढ़ावा एवं सुगमता प्रदान करना।
  • कृषि उत्पादों का वैज्ञानिक तरीके से भंडारण।
  • पशु आहार का उत्पादन और बिक्री।
  • पेट्रोलियम उत्पादन की बिक्री।
  • टीम बिल्डिंग, सशक्तिकरण और नवाचार की संस्कृति सृजन करते हुए मुख्य मूल्यों को संस्थागत करना।
मुख्य क्षमतायें

  • " मार्कफेड " 280 प्राथमिक विपणन समितियों की राज्य स्तरीय शीर्षस्थ संस्था है और करीब 4526 प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों के माध्यम से निर्धारित कार्य व्यवसायों से कृषकों की सेवा करते हुए सहकारी आंदोलन को आगे बढ़ाने में अपनी अहम भूमिका का निर्वहन कर रहा है । " मार्कफेड " का ध्येय बदलते परिवेश एवं अवसरों को सक्रियता से ग्रहण करते हुए, उद्देश्यों की पूर्ति कर निरन्तर सफलताएं अर्जित करने पर केंद्रित है ।
  • " मार्कफेड " पिछले 50 वर्षों से अधिक समय से सहकारी क्षेत्र में सेवा करते हुए किसानों के विश्वास  एवं भरोसे का सूचक बन गया है । यह एक ऐसे संगठन का प्रतिनिधित्व करता है जिसका लक्ष्य किसानों को आर्थिक मजबूती प्रदान करना और उनकी सामाजिक-आर्थिक स्थिति में परिवर्तन लाना है । " मार्कफेड " को मध्यप्रदेश के विपणन व कृषि क्षेत्र के लिए एक दीर्घ अनुभव तथा विशेषज्ञता हासिल है।
  • यह राज्य शासन और कृषि की आवश्यकताओं को पूर्ण करने वाली एक महत्वपूर्ण सहकारी संस्था है । 
  • वित्त वर्ष 2011-12 में प्रगति की दिशा में रूपये 3200 करोड़ के कुल व्यवसाय के साथ   " मार्कफेड " सम्पूर्ण प्रदेश में उर्वरक के 56 फीसदी और डाय अमोनियम फास्फेट (डीएपी) के 72 फीसदी वितरण में अपनी महत्वपूर्ण भागीदारी निर्वहित कर रहा है ।  
  • " मार्कफेड " यह भी सुनिष्चित करता है कि 426 वितरण केंद्रों के माध्यम से  244 स्थानों पर कृषि संबंधी सभी आवश्यक आदानो का वितरण हो ।
  • " मार्कफेड " कृषि उत्पाद के व्यवसाय में शीर्ष स्थान पर बने रहते हुए राज्य शासन के कृषि को बढावा दिये जाने के संकल्प के तहत खाद्यान्न उत्पादन में वृद्धि के लिए प्रयासरत है।
  • " मार्कफेड " ने राज्य सरकार के निर्देशानुसार  समर्थन मूल्य योजना के तहत वर्ष 2010-11 में 15.24 लाख मीट्रिक टन  गेहूँ  और 1.56 मीट्रिक टन धान उपार्जन किया है ।
  • प्रदेश के लाखों कृषकों के हितों को महत्व देते हुए " मार्कफेड " ने 48 प्रतिष्ठित रासायनिक उवर्रक निर्माता कंपनियों, 96 कृषि उपकरण कंपनियों और 124 कीटनाशक का निर्माण करने वाली कंपनियों और वितरकों के साथ व्यावसायिक जुड़ाव बनाया है।